एक रूपये का सिक्का- coin of one rupee

नमस्कार साथियो आज हम लेकर आये हैं आप के लिए एक बहुत ही शानदार प्रेरक प्रसंग– एक रूपये का सिक्का।

साथियो यह प्रेरक प्रसंग – एक रूपये का सिक्का आज के मानव की बढती इच्छाओं के बारे में हमे बताता है।

आज का प्रेरक प्रसंग

!! एक रुपये का सिक्का !!

एक ब्राह्मण व्यक्ति सुबह उठकर मंदिर की ओर जा रहा था। वहां उसे रास्ते में ₹1 का सिक्का मिलता है।

उस  ब्राह्मण के मन में विचार आता है कि यह ₹1 रुपये मैं किसी दरिद्र को दे देता हूँ। वह पूरे नगर में ढूंढता है उसे कोई दरिद्र और भिखारी नहीं मिलता है।

 हर रोज की तरह सुबह वह ब्राह्मण मंदिर की ओर प्रस्थान करता है। वहां उसे एक राजा दिखाई देता है वह बहुत बड़ी सेना लेकर दूसरे नगर में जाता रहता है।

राजा जैसे ब्राह्मण व्यक्ति को देखता है उसे प्रमाण करता है और कहता है की महात्मा मैं युद्ध करने जा रहा हूं, आप मुझे आशीर्वाद दीजिए कि मैं दूसरे नगर के राज्यों को भी जीत सकूं।

 यह सुनते ही ब्राह्मण व्यक्ति ₹1 का सिक्का राजा के हाथ में थमा देता है। राजा आश्चर्यचकित हो जाता और पूछता है कि आपने यह ₹1 का सिक्का मेरे हाथ में क्यों थमाया ?

ब्राह्मण व्यक्ति उत्तर देते हुए कहते हैं कि, मैं कई दिनों से कोई दरिद्र व्यक्ति ढूंढ रहा हूं जिसे ₹1रुपय दे सकूं।

पूरे नगर में ऐसा कोई दरिद्र और भिखारी व्यक्ति नहीं मिला जिसे मैं यह एक रुपये का सिक्का दे  सकता हु। सिर्फ और सिर्फ आप ही मुझे ऐसे दरिद्र व्यक्ति मिले जिनके पास सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं है

जिसकी अपेक्षा हमेशा अधिक से अधिक पाने की रहती है। इसलिए मैं यहां ₹1 का सिक्का आपको देना चाहता हूं

क्योंकि मुझे जिस दरिद्र व्यक्ति की तलाश थी वह साक्षत मेरे सामने खड़ा है।

यह सुनकर राजा का मस्तिष्क शर्म से झुक जाता है और वह अपनी सेना को वापस जाने का आदेश देता है।

शिक्षा:-

इस प्रसंग से हमे यह शिक्षा मिलती है की इंसान को कुछ पाने की जिद होनी चाहिए वह बहुत अच्छी बात है।

पर आज कल व्यक्ति की इच्छाएं इतनी ज्यादा हो गई हैं की उसके मन में आता हैं कि  सामने वाले व्यक्ति की जेब का पैसा भी मेरी जेब में आ जाये  !

यह स्वार्थी सोच बिलकुल भी अच्छी बात नहीं है।

फलस्वरूप : उसे सब कुछ मिलने के बाद भी वह दुखी रहता है क्योंकि उसकी इच्छा कभी खत्म नहीं होती।

इसलिए-      

सदैव प्रसन्न रहिये।

जो प्राप्त है, वही  पर्याप्त है।।

प्रेरक प्रसंग- कर्मो का हिसाब पढने के लिए यहाँ क्लिक करें।

नीचे दिये गये साेशल मिडिया आइकनो के द्वारा आप इसे अपने दोस्तो को भी शेयर कीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.